काण्टीय नीतिशास्त्र

हम इस लेख के विकिपीडिया पर मूल अनुवादक है। काण्टीय नीतिशास्त्र का सन्दर्भ एक कर्तव्यवैज्ञानिक नीतिशास्त्रीय सिद्धान्त(deontological ethical theory) से हैं, जिसको जर्मन दार्शनिक इमानुएल काण्ट ने प्रस्तुत किया था। यह सिद्धांत यूरोपीय ज्ञानोदय युग( 18 वी सदी) के परिणाम स्वरुप विकसित हुआ था, यह इस दृष्टिकोण पर आधारित है कि आंतरिक रूप से एक शुभ संकल्प ही शुभ कार्य है; एक कार्य केवल तभी … Continue reading काण्टीय नीतिशास्त्र

Generating electrical power from waste heat

Researchers have developed a tiny silicon-based device that can harness what was previously called waste heat and turn it into DC power. Directly converting electrical power to heat is easy. It regularly happens in your toaster, that is, if you make toast regularly. The opposite, converting heat into electrical power, isn’t so easy. Researchers from Sandia National Laboratories have developed a tiny silicon-based device that … Continue reading Generating electrical power from waste heat

प्राचीन भारत में वैज्ञानिक दृष्टि

विज्ञान की विस्मयकारी प्रगति विश्व-भर के कर्मठ वैज्ञानिकों के सामूहिक प्रयास का प्रतिफल है। यह सर्वविदित है कि विज्ञान की दृष्टि से प्राचीन भारत की उपलब्धियां विस्मयकारी थीं। परन्तु ऐसा देखा गया है कि वर्तमान में जब भी प्राचीन भारतीय विज्ञान की चर्चा होती है, तो भारतीय जनमानस दो गुटों में विभाजित हो जाते हैं। एक गुट के अनुसार हमारे पूर्वजों ने प्राचीन काल में … Continue reading प्राचीन भारत में वैज्ञानिक दृष्टि

Around 1.4 Billion Years Ago One Day Only Consisted Of 18 Hours

New Study Proves that Days Were Shorter in The Past. According to a new study, Moon is constantly getting away from Earth, and its distance has a significant effect on the duration of hours that make up for a full day on the Earth. Among other different reasons, Moon’s existence and its distance from Earth make our planet an ideal place where biological life can … Continue reading Around 1.4 Billion Years Ago One Day Only Consisted Of 18 Hours